चंद्रमा भी आये थे इस मंदिर में, ये थी वजह

Sat, Oct 20, 2018 5:51 PM

चंद्रिका देवी मंदिर जो कि करीब 300 साल पुराना है, यह लखनऊ से करीब 28 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। लखनऊ-नई दिल्ली राष्ट्रीय राजमार्ग 24 के पास बख्शी का तालाब है, जहां से करीब 11 किलोमीटर की दूरी पर कठवाड़ा गांव में माता चंडी देवी का मंदिर है। यहां की हरियाली और गोमती नदी की खूबसूरती देखते ही बनती है।

इसे माही सागर तीर्थ के नाम से भी जाना जाता है। इसके बारे में बताया जाता है कि प्राचीन काल में यहां मां दुर्गा पेड़ की कोटर में स्थापित थीं। 18वीं शताब्दी में यहां भक्तों ने मिलकर बड़ा ही सुंदर मंदिर बनवाया। नवरात्रि के दिनों में यहां भारी भीड़ इकट्ठा होती है। अपनी मन्नतें पूरी करने के लिए भक्त मंदिर में घंटा बांध जाते हैं।

मंदिर के बारे में पौराणिक कथा प्रचलित है कि चंद्रमा को जब अपने ससुर दक्ष प्रजापति के श्राप से मुक्ति चाहिए थी तो उन्होंने इसी तीर्थ के जल में स्नान किया था, जिससे उन्हें श्राप से मुक्ति मिल गई थी। यह भी माना जाता है कि महाभारत में पांडव द्रोपदी के साथ वनवास के वक्त यहां आए थे।