बहुत खास है सीतापुर का ये मंदिर

Sat, Oct 20, 2018 5:49 PM

पूरे भारत में 51 शक्तिपीठ हैं। माना जाता है कि भगवान शिव के क्रोध से इस दुनिया को बचाने के लिए भगवान विष्णु ने देवी सती के शव के 51 टुकड़े कर दिए थे, जो जहां-जहां गिरे, वहां शक्तिपीठ बन गए। इन्हीं शक्तिपीठों में से एक सीतापुर के नैमिषारण्य में स्थित ललिता देवी मंदिर है। यहां मां सती का ह्रदय गिरा था।

यह ऋषि-मुनियों की तपोभूमि भी है। यहां एक चक्रतीर्थ भी मौजूद है। माना जाता है कि भगवान विष्णु का चक्र यहीं आकर गिरा था। पुरानी कहानियों के मुताबिक चक्रतीर्थ में जो लोग स्नान कर लेते हैं, उनके सारे पाप धुल जाते हैं। यह भी कहा जाता है कि माता ललिता देवी के मंदिर में जो सच्ची श्रद्धा के साथ पहुंचता है, उसकी हर मन्नत मां जरूर पूरा करती हैं।

यहां मन्नतें पूरी होने तक भक्त एक धागा मंदिर में बांध देते हैं। जब मन्नत पूरी हो जाती है, तो वे उस धागे को खोल लेते हैं। इस शक्तिपीठ में पूरे साल भीड़ होती है, लेकिन नवरात्रि के दिनों में यहां कुछ ज्यादा ही भीड़ उमड़ पड़ती है।