जैसे घर का सेवक तय करते हैं, वैसे ही प्रधानसेवक तय करें: पीएम मोदी 

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बीजेपी राष्ट्रीय अधिवेशन के दूसरे और अंतिम दिन अपने समापन भाषण में विपक्षी पार्टी पर जमकर बरसे। यहाँ कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि कभी दो कमरों से चलने वाली पार्टी, दो सांसदों वाली पार्टी आज इस विशाल स्वरूप में अपना राष्ट्रीय अधिवेश कर रही है जो अपने आप में अद्भुत और अविस्मरणीय है। अपने सम्बोधन में पीएम मोदी ने कहा कि जैसे आप अपने घर का सेवक तय करते हैं वैसे ही तय कीजिए की देश को कैसा प्रधानसेवक चाहिए। 

Image result for narendra modi

पीएम मोदी ने अपनी सरकार की पिछले साढ़े चार की उपलब्धियां गिनवाई। कांग्रेस पार्टी को आड़े हाथों लेते हुए उस पर सीधा हमला बोला। पीएम ने कहा कि विपक्ष मजबूर सरकार चाहते हैं, ताकि अपने परिवार का, अपने रिश्तेदारों का भला कर सकें। देश मजबूत सरकार चाहता है, ताकि सबका साथ-सबका विकास हो सके। पीएम मोदी ने अपने सम्बोधन में कहा कि क्या आप ऐसे सेवक को पसंद करेंगे जो आपके घर का पैसा चोरी करके अपने परिवार में बांटे? क्या आप चाहते हैं कि वो पड़ोसियों को आपके घर के अंदर की बात बताए? जैसे आप अपने घर का सेवक तय करते हैं वैसे ही तय कीजिए की देश को कैसा प्रधानसेवक चाहिए। आगे बोलते हुए पीएम मोदी ने कहा कि ये लड़ाई सल्‍तनत और संविधान में भरोसा रखने वालों की है। देश तय करे कैसा प्रधानसेवक चाहिए। 

Image may contain: 16 people, people smiling, crowd

अपने भाषण के समापन में पीएम मोदी विपक्षी पार्टियों पर जमकर बरसे। सबसे पहले गठबंधन को आड़े हाथों लेते हुए पीएम ने कहा कि देश के इतिहास में पहली बार ऐसी सरकार है जिस पर भ्रष्टाचार के आरोप नहीं है, देश विकास के मंत्र के आधार पर आगे बढ़ रहा है। अपने सम्बोधन में नरेंद्र मोदी ने कहा कि वे यह नहीं कहते कि सभी लक्ष्य पूरे कर लिये गए हैं, अभी भी बहुत कुछ करना है। लेकिन वह कहना चाहते हैं कि उन्होंने कमियों को दूर करने का ईमानदारी से प्रयास किया है। चुनौतियां चाहे जितनी भी बड़ी हो, प्रयास उतने ही ईमानदार होंगे।