दिल्ली में 43 की मौत के बाद ये हिरासत में

Sun, Dec 8, 2019 10:55 PM

दिल्ली के रानी झांसी रोड स्थित अनाज मंडी में एक फैक्ट्री में आग लग जाने की वजह से मरने वालों की संख्या 43 तक पहुंच गई है। इनमें से अब तक 29 शवों की पहचान की जा चुकी है। पुलिस ने गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज करते हुए फैक्ट्री के मालिक मोहम्मद रेहान को गिरफ्तार कर लिया है। वह घटना के बाद से फरार चल रहा था, लेकिन आखिरकार पुलिस ने उसे ढूंढ़ निकाला है। एनडीआरएफ के दल ने मीडिया में बताया है कि आग लगने के बाद कार्बन मोनोऑक्साइड गैस इमारत में भर गई थी और इसी जहरीले गैस की वजह से अधिकतर श्रमिकों की इसमें जान गई है।

बताया जा रहा है कि बड़ी मात्रा में कार्बन मोनोऑक्साइड गैस यहां मिला है। इमारत की तीसरी और चौथी मंजिल में धुआं भरा हुआ था और इनमें कार्बन मोनोऑक्साइड की मात्रा अधिक थी। यहां अधिकतर खिड़कियां बंद थीं, जिसकी वजह से धुआं बाहर नहीं जा पा रहा था। अधिकतर मजदूर उस वक्त गहरी नींद में सो रहे थे।

इमारत में रखे सामान के जलने के कारण कार्बन मोनोऑक्साइड तेजी से बढ़ती चली गई। वर्ष 1997 में दिल्ली में उपहार सिनेमा हादसा भी हुआ था, जिसके बाद से आग लगने की यह दूसरी सबसे बड़ी घटना मानी जा रही है ल। हादसे में मरने वालों के परिजनों को 10-10 लाख रुपये के मुआवजे की घोषणा की गई है, जबकि घायलों को एक लाख रुपये का मुआवजा देने का ऐलान दिल्ली सरकार की ओर से किया गया है। मरने वालों में बिहार के कई मजदूर शामिल हैं।