पार्रिकर की इस चिट्ठी से राहुल के आरोपों को मिली मजबूती

Sun, Feb 10, 2019 3:16 PM

राफेल सौदे में कथित भ्रष्टाचार को लेकर कांग्रेस लगातार केंद्र की मोदी सरकार पर हमलावर है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने एक बार फिर से मोदी सरकार को एक अखबार में प्रकाशित खबर को लेकर घेरा है। राहुल गांधी ने तत्कालीन रक्षा मंत्री मनोहर पारिकर के बारे में भी कहा है कि उन्हें भी इस सौदे की पूरी जानकारी थी।

गौरतलब है कि अखबार में जो दस्तावेज के हवाले से खबर प्रकाशित की गई है, उसमें बताया गया है कि उस वक्त मोहन कुमार जो रक्षा सचिव थे, उन्होंने 2015 में राफेल डील को लेकर रक्षा मंत्री मनोहर पारिकर को एक पत्र लिखा था। इस पत्र में रक्षा मंत्री ने लिखा था कि अच्छा हो कि प्रधानमंत्री कार्यालय इस तरह की बातचीत नहीं करे, क्योंकि इससे सौदा करने के मामले में हमारी स्थिति बेहद कमजोर हो जाती है।

रक्षा सचिव ने यह बात 1 दिसंबर, 2015 को लिखी थी। तत्कालीन रक्षा मंत्री मनोहर पारिकर ने इस पर 11 जनवरी 2016 को अपनी टिप्पणी की थी। इसमें उन्होंने लिखा था कि शिखर बैठक के बाद प्रधानमंत्री कार्यालय और फ्रांस के राष्ट्रपति कार्यालय पूरे मामले की प्रगति पर लगातार नजर बनाए हुए हैं। उन्होंने यह भी लिखा था कि पैरा 5 में जरूरत से ज्यादा ही प्रतिक्रिया व्यक्त की गई है।

अब कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी इसे लेकर यह कह रहे हैं कि इससे साफ हो गया है कि प्रधानमंत्री कार्यालय राफेल सौदे में सीधे तौर पर दखल दे रहा था। ऐसे में कांग्रेस के नेता मलिकार्जुन खरगे ने कहा है कि पूरा मामला तभी पूरी तरह से साफ हो सकता है, जबकि इसकी जेपीसी से जांच कराई जाए।