वाराणसी: पीएम के संसदीय क्षेत्र में जलाई गई 13 पॉइंट रोस्टर की प्रतियां 

वाराणसी: रोहनिया पूर्वांचल किसान यूनियन की अगुवाई में विभिन्न सामाजिक राजनीतिक संगठनों के प्रतिनिधियों ने राजातालाब स्थित संपूर्णा वाटिका में सोमवार को दोपहर बाद बैठक कर विभिन्न संगठनों के प्रतिनिधियों ने सवर्ण आरक्षण और 13 प्वाइंट रोस्टर के विरोध में पीएम के संसदीय क्षेत्र के ग्रामीण इलाके में मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि ब्राह्मणवादी, मनुवादी सरकार संविधान के परे जा कर आर्थिक आधार पर सवर्ण आरक्षण दे रही हैं जो संविधान की मूलभावना के खिलाफ हैं। 

Image may contain: one or more people, table and outdoor

पूर्वांचल किसान यूनियन के अध्यक्ष जिला पंचायत सदस्य प्रतिनिधि योगीराज सिंह पटेल ने कहा की उच्च पदों पर मनुवादी बैठे हुए हैं और इस बिल का सबसे ज्यादा असर युवाओ पर पड़ेगा। संविधान में आरक्षण इस लिए लाया गया की जो सालो से दबे कुचले वंचित समाज के लोगो को आगे बढ़ाने के लिए लाया गया था। ये कोई रोज़गार गारंटी योजना नहीं हैं। माले के मनीष शर्मा ने कहा कि सरकार आर्थिक जनगणना के आंकड़े जारी कर बताए कि दलित वंचित शोषित समाज की क्या स्थिति हैं। 

Image may contain: 14 people, including Shoukat Ali, people smiling, people standing

मनरेगा मजदूर यूनियन के संयोजक सुरेश राठौर ने कहा कि सरकार अगर सरकार सवर्ण आरक्षण बिल वापस नहीं लेती हैं तो इसके ख़िलाफ़ सड़कों पर उतर के लड़ाई लड़ी जाएगी। काशी विद्यापीठ के समाज  कल्याण संकाय के प्रोफेसर अनिल चौधरी ने कहा कि सरकार दलित ओबीसी समाज के छात्रों युवाओं के साथ धोखा कर रही हैं। दलित ओबीसी समाज के युवाओं को उच्च शिक्षा और सरकारी नौकरियों से दूर रहने की साजिश हैं। सामाजिक कार्यकर्ता राजकुमार गुप्ता ने कहा की सरकार article 341 पर लगी रोक हटाई जाए। सरकार की कथनी और करनी में फर्क हैं। 

Image may contain: 10 people, people standing

बैठक में वक्ताओं ने कहा कि हम सरकार से मांग करते हैं कि जल्द से जल्द 13 रोस्टर प्वाइंट को वापस ले, 200 प्वाइंट रोस्टर प्रणाली को लागू किया जाए ताकि सामाजिक समानता को हानि न पहुंचे व उच्चतर शिक्षा व शिक्षण संस्थानों में दलितों में पिछड़ों की समान भागीदारी हो सके। सरकार का ये मनुवादी फैसला वर्ग संघर्ष की ओर ले जाएगा।  सभा के बाद संविधान संसोधन बिल और 13 प्वाइंट रोस्टर की प्रतीकात्मक रूप से प्रति जला कर सरकार का विरोध किया गया। 

Image may contain: 14 people, people smiling, people standing

राजकुमार गुप्ता की रिपोर्ट के अनुसार इस विरोध सभा में पूर्वांचल किसान यूनियन के अध्यक्ष योगी राज सिंह पटेल, विद्यापीठ के समाज कार्य संकाय प्रोफेसर अनिल चौधरी, मनीश शर्मा, डा. नंदकिशोर, ओमप्रकाश, शीतला यादव जिला पंचायत सदस्य, संतोष यादव जिला पंचायत सदस्य, सुरेश राठौर मनरेगा मजदूर यूनियन, सामाजिक कार्यकर्ता राज कुमार गुप्ता, महेंद्र राठौर, अजीत वर्मा, विवेक पटेल, बबलू पटेल, सुनील पटेल, गणेश शर्मा, दिनेश विश्वकर्मा, केशव प्रसाद वर्मा एडवोकेट, ओम प्रकाश, राधेश्याम, रामबचन, संतोष कुमार, विष्णु, अक्षैबर भारती, गणेश प्रसाद पटेल अध्यापक, दिलीप, प्रेम मोदनवाल, आलोक, अशोक,  डा. अजय, शिराजुद्दीन आदि लोग मौजूद रहे।