रक्षा मंत्री ने बताया, आखिर क्यों नहीं हुई मुंबई हमले के बाद कार्रवाई?

Mon, Apr 15, 2019 2:51 PM

भारत की रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने सेना को लेकर कांग्रेस पर बेहद गंभीर आरोप लगाये हैं। उन्होंने कहा है कि साल 2008 में जब मुंबई पर लश्कर-ए-तैयबा के 10 आतंकवादियों ने आतंकी हमला किया था, जिसमें 174 लोगों की जान चली गई थी और सैकड़ों घायल हुए थे, उस वक्त कांग्रेस की सरकार ने सेना को कार्रवाई करने के लिए आजाद नहीं छोड़ा था, जिस वजह से हमारे जवान उसी वक्त आतंकवादियों और उन्हें समर्थन देने वालों को करारा जवाब नहीं दे सके थे।

निर्मला सीतारमण ने यह भी आरोप लगाया कि कांग्रेस ने सेना का राजनीतिकरण करने की कोशिश की है, जिसे किसी भी सूरत में जायज नहीं ठहराया जा सकता। यह बयान निर्मला सीतारमण ने ऐसे वक्त में दिया है, जब कांग्रेस भाजपा पर यह आरोप लगा रही है कि वह सेना की बहादुरी को श्रेय खुद लेकर लोकसभा चुनाव में वोट मांग रही है।

रक्षा मंत्री ने एक कार्यक्रम में अपने संबोधन में कहा कि यदि वैसी ही राजनीतिक इच्छाशक्ति मुंबई हमले के बाद भी दर्शाई गई होती जैसी कि पुलवामा हमले के बाद देखने को मिली, तो इसके बाद पाकिस्तान की ओर से भारत को न तो धमकियों का सामना करना पड़ता और न ही आतंकवादी हमलों का।