बीएसए की शिकायत को प्रभारी मंत्री से मिले शिक्षक प्रतिनिधि, जिलाधिकारी को जांच का आदेश

मऊ। यूपी के जनपद मऊ में राज्य कर्मचारी और शिक्षक संगठन बीएसए के खिलाफ आंदोलन कर रहे हैं। मामला स्कूलों में बंटे ड्रेस की खराब गुणवत्ता और भ्रष्टाचार का है। वहीं कुछ शिक्षकों ने पिछले महीने दिसंबर की 20 तारीख को बीएसए द्वारा रिवाल्वर तानने का भी आरोप लगाया है। मामले में अभी तक एफ आई आर दर्ज नहीं हुआ है। जिसे लेकर रविवार को शिक्षक प्रतिनिधियों ने जिले के प्रभारी मंत्री सुरेश पासी से मुलाकात की और शिकायत किया।

रकौली प्राथमिक विद्यालय के प्रधानाचार्य सतीश कुमार सिंह ने बताया कि बीते माह दिसंबर में 20 तारीख को हमलोग बीएसए कार्यालय में बातचीत करने गए थे। ड्रेस की खराब क्वालिटी को लेकर हम उनसे शिकायत कर रहे थे कि अचानक बीएसए ने रिवाल्वर तान दिया। वहीं निजी रूप से मुझे पिछले साल भर से उनके द्वारा प्रताड़ित किया जा रहा है।

अध्यापक अंजनी कुमार सिंह ने आरोप लगाते हुए कहा कि जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी ने जिला प्रशासन के संरक्षण में ड्रेस में बड़ा घोटाला किया है। जिसकी शिकायत करने पर बीएसए द्वारा शिक्षक प्रतिनिधियों पर रिवाल्वर ताना गया। साथ ही अध्यापकों को निलंबित करके प्रताड़ित किया जा रहा है। आज जिले के प्रभारी मंत्री सुरेश पासी को हमने इस संबंध में ज्ञापन देकर शिकायत की है।

शिक्षक संगठन के पदाधिकारी कृष्णानंद राय ने कहा कि स्कूलों में ड्रेस स्कूल मैनेजमेंट कमेटी को बांटना था लेकिन बीएसए द्वारा प्राइवेट ठेकेदार नियुक्त करके ड्रेस बंटवाया जा रहा है। जो ड्रेस बंट रहा है वह गुणवत्ता विहीन है। पिछले महीने 20 तारीख को इस संबंध में बीएसए से बात करने के लिए हम उनके कार्यालय गए थे। इसी बीच उन्होंने हमें जान से मारने की धमकी देते हुए रिवाल्वर तान दिया। पूरा वाकया सीसीटीवी कैमरे में कैद है। इस संबंध में एफ आई आर दर्ज करने के लिए हम पुलिस से कह रहे हैं लेकिन अभी तक f.i.r. नहीं दर्ज हुआ है। इसी मामले को लेकर आज हमने प्रभारी मंत्री से भी शिकायत की है। प्रभारी मंत्री ने आज जिलाधिकारी और बीएसए को बुलाकर बात की है। जब तक भ्रष्टाचार के मामले का खुलासा नहीं होगा तब तक हम शिक्षक कर्मचारी आंदोलन करते रहेंगे।

पूरे मामले पर मीडिया कर्मियों के सवाल पर जिले के प्रभारी मंत्री सुरेश पासी ने बताया कि विद्यालयों में ड्रेस की खराब गुणवत्ता की शिकायत आई है। साथ ही कुछ अन्य लिखित शिकायतें भी आई हैं। इस बारे जिलाधिकारी से बात हुई है। बीएसए द्वारा अध्यापकों पर रिवाल्वर तानने की बात पर कहा कि इसकी जांच के लिए जिलाधिकारी को कहा गया है। जांच होने के बाद ही मामले की सच्चाई सामने आएगी।