spot_img

उत्तर प्रदेश के इस शहर में इन दो सड़कों का चौड़ीकरण, अब नहीं लगेगा जाम

लोक निर्माण विभाग द्वारा वाराणसी की दो सड़कों पड़ाव चौराहे से टेंगरा मोड़ तक की सड़क और लहरतारा से मोहनसराय तक की सड़क को वाराणसी-प्रयागराज भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआइ) से जोड़ने के लिए चौड़ा करने का काम किया जाएगा। पड़ाव चौराहे से टेंगरा मोड़ तक की सड़क को फोर लेन बनाया जाएगा जिसकी कुल चौड़ाई लगभग 26 मीटर होगी तथा लहरतारा से मोहनसराय तक की सड़क को सिक्स लेन बनाया जाएगा, सर्विस रोड को मिलाकर इसकी कुल चौड़ाई लगभग 56 मीटर होगी। गौरतलब है कि श्रीकाशी विश्वनाथ धाम का लोकार्पण होने के बाद से लगातार दर्शन करने वालों का जत्था वाराणसी पहुंच रहा है लेकिन सड़कें पतली होने की वजह उन्हें अक्सर जाम लगा रहता है, जिससे उनको काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

पीडब्ल्यूडी विभाग द्वारा सड़क के किनारों पर जो पेड़ तथा बिजली के खंभें हैं उनको हटाने में आने वाले खर्च को लेकर वन विभाग और बिजली विभाग से चर्चा करके सभी पेड़ों और बिजली के खंभों को हटाने के लिए कहा गया है। सड़क के किनारों पर स्थित बिजली के खंभों और पेड़ों को पीडब्ल्यूडी विभाग पहले ही हटवा देना चाहता है ताकि सड़क निर्माण में किसी भी प्रकार की असुविधा न हो। मोहनसराय से लेकर कैंट रेलवे स्टेशन तक 13 किलोमीटर लंबे मार्ग पर मोहनसराय से लहरतारा बौलिया तक की 10 किलोमीटर लंबी सड़क को सिक्स लेन तथा बौलिया से कैंट रेलवे स्टेशन तक 3 किलोमीटर लंबी सड़क को फोर लेन के रूप में तैयार किया जाएगा।

इन दोनों सड़कों के चौड़ीकरण के लिए टेंडर की प्रक्रिया पूरी कर ली गई है, खबरों की मानें तो कैंट से मोहनसराय तक की 13 किलोमीटर लंबी सड़क पर 412.53 करोड़ रुपये तथा पड़ाव से टेंगरा मोड़ तक 6.87 किलोमीटर लंबी सड़क पर 201.28 करोड़ रुपये खर्च होंगे जिनमें से 2.81 करोड़ रुपये अंडरपास के निर्माण पर, 19.83 करोड़ रुपये सीवर निर्माण पर और बिजली तथा पेयजल पाइपलाइन पर कुल 55 करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे जबकि जमीन व मकानों के मुआवजे के लिए 50 करोड़ रुपये की राशि पहले ही दी जा चुकी है। फोर लेन और सिक्स लेन दोनों सड़कों की चौड़ाई नाप कर सड़क के दायरे में आने वाले अतिक्रमण को चिन्हित कर उन मकानों के बारे में पूरी जानकारी राजस्व विभाग से माँगी गई है। ब्योरा मिलने के बाद जमीन और मकान मालिकों को उचित मुआवजा देने की प्रक्रिया शुरू की जाएगी। – एसके अग्रवाल, अधीक्षण अभियंता-पीडब्ल्यूडी

Must Read

Related Articles