spot_img

कानपुर -लखनऊ एक्सप्रेस वे के लिए 80 प्रतिशत भूमि का अधिग्रहण पूरा, जुलाई महीने से होगा निर्माण

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से औद्योगिक शहर कानपुर के बीच की दूरी कम करने के लिए बहुत जल्द एक्सप्रेस वे का निर्माण कार्य शुरू किया जाएगा। कानपुर-लखनऊ एक्सप्रेस वे के लिए प्रस्ताव पास कर लिया गया है अतः जुलाई महीने से निर्माण कार्य शुरू होने की संभावना जताई जा रही है। निर्माण करने वाली कंपनी का अनुमान है कि इस परियोजना का काम लगभग 30 महीने के भीतर ही पूरा कर लिया जाएगा।

इसके साथ ही रामादेवी में एलीवेटेड सड़क के अलावा जाजमऊ पुल से लखनऊ तक हाईवे के रखरखाव और विस्तार का एनएचएआई लखनऊ रीजन द्वारा संभाला जाएगा। एनएचएआई द्वारा इस एक्सप्रेस-वे के निर्माण के लिए सबसे कम (लगभग 46 सौ करोड़ रुपये) बोली लगाने वाली कंपनी पीएनसी इंफ्राटेक को दिया गया है। छः लेन चौड़े इस एक्सप्रेस वे का स्ट्रक्चर आठ लेन का होगा जिसकी लंबाई लगभग 62 किलोमीटर होगी, इस एक्सप्रेस वे पर जाजमऊ से नया सरफेस जुड़ जाएगा।

लखनऊ के बनी से शुरू होकर यह एक्सप्रेस वे कानपुर तक जाएगा तथा बनी से सरोजनीनगर तक 18 किलोमीटर लंबी एलीवेटेड सड़क का निर्माण किया जाएगा। इस पर बीच बीच में 38 अंडरपास, 3 बड़े तथा 28 छोटे पुल, पैदल चलने वालों के लिए 22 अंडरपास, एक टोल प्लाजा के साथ साथ दोनों तरफ एमिनिटी सेंटर का भी निर्माण किया जाएगा। इस एक्सप्रेस वे के निर्माण के लिए 80 प्रतिशत भूमि का अधिग्रहण किया जा चुका है, निर्माण कार्य पूरा हो जाने के बाद इस एक्सप्रेस पर 100 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से भी तेज चलकर यात्री लखनऊ से कानपुर की दूरी 40 मिनट से भी कम समय में पूरा कर लेंगे।

Must Read

Related Articles