spot_img

गोरखपुर की मिली 10 और नई इलेक्ट्रिक बसें, जानिए किन रूटों पर होगा संचालन।

योगी आदित्य नाथ की कर्म भूमि गोरखपुर में पहले से ही संचालित हो रही 15 इलेक्ट्रिक बसों के बेड़े में 10 और नई इलेक्ट्रिक बसें शामिल होने के लिए बीते बुधवार को महेसरा डिपो में आकर खड़ी हो गई हैं। बेड़े में इन 10 इलेक्ट्रिक बसों के जुड़ जाने पर इलेक्ट्रिक बसों की कुल संख्या 25 हो जाएगी जिससे अब नये मार्गों जिनमें पिपराइच रूट प्रमुख है, पर भी इलेक्ट्रिक बसों के संचालन की संभावना है।

फिलहाल गोरखपुर शहर के चार सड़क मार्गों पर संचालित होने वाली 15 इलेक्ट्रिक बसों में रोजाना हजारों यात्री आरामदायक सफर का आनंद ले रहे हैं। यात्रियों की संख्या के अनुपात में बसों की संख्या बहुत कम होने की वजह से यात्रियों को बस स्टैंड पर काफी इंतजार करना पड़ता था इसलिए इलेक्ट्रिक बस संचालन समिति ने इलेक्ट्रिक बस का निर्माण करने वाली कंपनी को 10 नई बसों के लिए ऑर्डर दिया और बसें तैयार होकर बुधवार की सुबह शहर के महेसरा स्थित इलेक्ट्रिक बस डिपो में खड़ी हो गई हैं। जल्द से जल्द बसों का पंजीकरण करके इन्हें संचालन के लिए सड़क पर उतार दिया जाएगा।

फिलहाल महेसरा से सहजनवां, झुंगिया से रानीडिहा, महेसरा से एयरपोर्ट और भटहट से महेसरा वाले मार्ग पर 15 बसों का संचालन किया जा रहा है अब 10 बसों के आने बाद यात्रियों की संख्या के हिसाब से पुराने रूटों पर बसों की संख्या को बढ़ाया जाएगा तथा संभावना है कि कुछ नए रूटों पर भी इलेक्ट्रिक बसों का संचालन शुरू किया जाएगा। प्रतिदिन 1.25 लाख रुपये की आय के लक्ष्य के साथ 15 इलेक्ट्रिक बसों का संचालन शुरू किया गया था लेकिन शुरुआत में 4 महीने तक घाटा होने के बाद इलेक्ट्रिक बसों ने मार्च में 1 लाख अप्रैल में 1 लाख 25 हजार और अब 1 लाख 30 हज़ार रुपये प्रतिदिन का मुनाफा दे रही है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ ने अपने दौरे के दौरान गोरखपुर महानगर और आसपास के क्षेत्रों में इलेक्ट्रिक बसों की बढ़ रही माँग को संज्ञान में लेकर गोरखपुर को 25 और नई इलेक्ट्रिक बसें देने के लिए कहाँ है; इन 25 बसों के बेड़े में जुड़ जाने के बाद गोरखपुर में इलेक्ट्रिक बसों की कुल संख्या 25 से बढ़कर 50 हो जाएगी। गौरतलब है कि गोरखपुर आने वाले पर्यटकों के लिए 2 दो विशेष इलेक्ट्रिक बसें शीशा टूटने और पंजीकरण न हो पाने की वजह से पिछले एक महीने से इलेक्ट्रिक बस डिपो में खड़ी हैं।

पीएमआई के साइट इंचार्ज पवन कुमार का कहना है कि पहले से ही 15 इलेक्ट्रिक बसें संचालित हो रही हैं, विशेष रूप से पर्यटकों के लिए तैयार 2 इलेक्ट्रिक बसें भी डिपो में खड़ी हैं अब 10 और नई इलेक्ट्रिक बसें मिल जाने के बाद महानगर में इलेक्ट्रिक बसों की कुल संख्या 27 हो गई है इसलिए पुराने रूटो पर बसों की संख्या बढ़ाने के साथ ही एक नये रूट पर भी बसों का संचालन शुरू किया जाएगा।

Must Read

Related Articles