उत्तर प्रदेश के इन शहरों के बीच चलेगा सी प्लेन, यात्री उठा पाएँगे लाभ, जानिए किराया

जब से योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली है तब से लगातार गोरखपुर में विकास की गंगा प्रवाहित हो रही थी। आए दिन नए नए निर्माण कार्यों की घोषणा की जाती थी और निर्माण कार्य पूरे किए जाते थे। गोरखपुर की जनता मुख्यमंत्री के इन विकास कार्यों से गदगद है, इसलिए योगी आदित्यनाथ ने पिछले दिनों संपन्न हुए उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में गोरखपुर की सदर विधानसभा सीट से भारी मतों जीत दर्ज की है। अब योगी आदित्यनाथ लगातार दूसरी बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ले चुके हैं, अतः इससे इनकार नहीं किया जा सकता कि आने पांच सालों तक गोरखपुर में विकास की गंगा यूँ ही प्रवाहित होती रहेगी।

गोरखपुर से वाराणसी के बीच स्पाइसजेट सी प्लेन चलाने वाला है। सी प्लेन चलाने के लिए आवश्यक मानदंडों को गोरखपुर का रामगढ़ ताल भी पूरा करता है इसलिए अब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गोरखपुर के रामगढ़ ताल से लेकर काशी तक सी-प्लेन चलाने की घोषणा कर दी है जिसके बाद से ही स्थानीय प्रशासन तैयारियों में जुटा हुआ है। गोरखपुर से वाराणसी के बीच की दूरी लगभग 200 किलोमीटर है और इस दूरी को ट्रेन या फिर सड़क मार्ग से तय करने में काफी लंबा वक्त लग जाता है। यात्रा में लगने वाले समय को कम करने के लिए सरकार ने सी प्लेन चलाने का निर्णय लिया है, सी प्लेन से गोरखपुर से वाराणसी की दूरी महज 40 मिनट में आसानी से पूरी की जा सकेगी।

पर्यटन के लिहाज से नरेन्द्र मोदी सरकार देश भर में सी प्लेन संचालित करवाना चाहती है, इसके लिए स्पाइसजेट द्वारा बहुत जल्द देश भर में 18 सी प्लेन चलाई जाने वाली है। भारत में पहला सी-प्लेन प्रधानमंत्री मोदी के गृह राज्य गुजरात के अहमदाबाद में स्थित साबरमती रिवरफ्रंट से लेकर केवड़िया तक चलाया जा रहा है। जापान में निर्मित इस ‘आटर 300’ श्रेणी के इस सी-प्लेन को स्पाइस जेट द्वारा संचालित किया जा रहा है, इस सी प्लेन में एक साथ 12 यात्री सफर कर सकते हैं।

Must Read

Related Articles